प्राचार्य का संदेश

“बच्चों को सिखाया जाना चाहिए कि कैसे सोचना है,नहीं की क्या सोचना है।” -मार्गरेट मीड

महात्मा गांधी शासकीय कला और विज्ञान महाविद्यालय में आपका स्वागत है

मेरे लिए यह प्रसन्नता का विषय है कि हमारा महाविद्यालय प्रति वर्ष वार्षिक  पत्रिका प्रकाशित करता  है। पत्रिका महाविद्यालय की विभिन्न गतिविधियों का दर्पण होती है । महाविद्यालय में शिक्षण कार्य के साथ साथ छात्र छात्राओं के सर्वांगीण विकास हेतु अनेक गतिविधियां वर्ष पर्यंत चलती रहती हैं । इस पत्रिका के माध्यम से आप अवगत हो सकेंगे कि महाविद्यालय में एनसीसी, खेलकूद एवं विभिन्न कौशलों के विकास के लिए अनेक प्रतियोगिताओं का आयोजन प्रत्येक सप्ताह होता है, जिसमें विद्यार्थी भाग लेते हैं और अपनी प्रतिभा को निखारते हैं ।

मुझे विश्वास है कि हमारे विद्यार्थी आगे चलकर प्रबुद्ध,देशभक्त एवं विविध कौशलों से परिपूर्ण सभ्य नागरिक बनेंगे एवं समाज और देश के विकास में अपना यथासंभव सक्रिय योगदान देकर अपने मानव जीवन को सफल बनाएँगे।

प्राचार्य

डॉ पी. सी. घृतलहरे